प्राचीन कैलास मंदिर का रहस्य

आपने अनेको रहस्यमयी स्थानों के बारे में सुना होगा, कुछ जगहे भूतिया होने से मशहूर है तो कुछ पुरातन होने की वजह से मशहूर, हमारा देश ऐसे अनेक रहस्यों से भरा हुवा है,आज मैं आपको एक ऐसे रहस्यमयी मंदिर के बारे में बताने जा रहा हु, जो प्राचीन होने के साथ साथ रहस्यमयी भी है।

कुछ वैज्ञानिको का यह भी मानना है की इस मंदिर का निर्माण एलियन ने किया था, लेकिन इसकी सच्चाई क्या है ये कोई नहीं जान पाया है, उस मंदिर का नाम है, कैलास मंदिर, ये मंदिर महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में स्थित है, इस स्थान पर अनेको गुफाएं है, उनमे से कुछ बौद्ध गुफाएं है, कुछ जैन गुफाएं है और कुछ हिन्दू गुफाएं है एस कुल ३४ गुफाएं मौजूद है।

इस स्थान को विश्व में एल्लोरा केव्स के नाम से जाना जाता है, इन्ही गुफाओ में से १६ वीं गुफा में स्थित है कैलास मंदिर, सुन्दर कलाकृतियों का ये नमूना है, इस मंदिर को हर साल दुनिया भर से लोग देखने आते है, अनेक शोधकर्ता इस मंदिर के निर्माण के रहस्य को जानने के लिए आते है।

इस मंदिर को बनाने में कितना समय लगा होगा ये बता पाना आसन नहीं है, कुछ लोगो का मानना है की करीब करीब १५० से ज्यदा साल लगे होंगे। सिर्फ हतोड़ीऔर छैनी से इस पुरे मंदिर का निर्माण करना जैसे नामुमकिन सा लगता है, आज की टेक्नोलॉजी का सहारा लिया जाये तो भी यह कार्य मुमकिन नहीं है, कहा जाता है की कुल २ लाख टन पत्थर काट कर बहार निकला गया है।

सबसे चौका देने वाली बात है की, आम तौर पर किसी भी वास्तु या मंदिर का निर्माण निचे से ऊपर किया जाता है, लेकिन इस मंदिर का निर्माण ऊपर से निचे किया हुवा है, जब आप इस मंदिर के ऊपर खड़े होक निचे देखेंगे और गहराई नापने की कोशिश करेंगे तो आपके पसीने छुट जायेंगे।

जब हम इस मंदिर का निरिक्षण कर रहे थे, तब हमने देखा की बहुत सी मुर्तिया टूटी हुयी थी, इसका कारण जानने के लिए जब हमें स्थानिक प्रशासन से जानकारी ली तो पता चला की औरंगजेब नामक मुग़ल शासक ने इस मंदिर को ३ साल तक तोड़ने की कोशिश की थी, उसने हजारो लोगो को काम पे लगाया था, लेकिन वो इस मंदिर को तोड़ नहीं पाया, सिर्फ कुछ मूर्तियों को वे तोड़ पायें।

इस मंदिर में भगवान शिव का निवास स्थान कैलास का स्वरुप देने की कोशिश की गयी है, अनेक उल्लेखनीय कलाकृतियां नजर आती है, तीनो देवियों की सभा भी इस मंदिर में आप देख सकते है।

हाथी को हिन्दू धर्म में बहोत पवित्र माना जाता है, और इसी कारण से उस जगह हाथी की बड़ी प्रतिमा नजर आती है, लेकिन वह टूटू हुयी है।

भगवान् शिव के साथ साथ आपको अनेक देवताओ की भी मुर्तिया नजर आएँगी, भगवन विष्णु जी के अनेक अवतारों को यहापर दिखाया गया है, वराह अवतार, नरसिंह अवतार, वामन अवतार, राम अवतार, परशुराम अवतार, कुर्म अवतार, मत्स्य अवतार, ऐसे अनेक अवतारों को दिखाया गया है,अनेक जगह पर भगवन शिव और पारवती संवाद करती हुयी दिखाई देती है, इन मूर्तियों में भगवन शिव देवी पारवती जी को ज्ञान दे रहे है।

उसी के साथ साथ इस मंदिर में रावण को भी दिखाया गया, है कैलास पर्वत को उठाते हुए रावन की मुर्तिया दीवारों में बनायीं गयी है, ये कोरीव काम इतना सुन्दर है की देखने वाले लोगो का मन प्रसन्न हो जाता है।

इस भव्य मंदिर के मध्य में भगवन शिव का लिंग प्रस्थापित है, सभी लोग उसके दर्शन करने जाते है।

कुछ जगहों पर महाभारत के युद्ध और महाभारत की अनेक घटनाओ का उल्लेख करते हुए चित्र बनाये गए है।
मंदिर के ऊपर एक भव्य कमल पुष्प का निर्माण किया है, और उसके ऊपर ४ शेरो की मुर्तिया नजर आती है, स्थानीय लोग कहते है की ये शेर मंदिर के रक्षा कवच की तरह काम करते है।

लेकिन किसने किया ये सब, इस नामुमकिन से काम को आखिर बनाया किस तरीके से, कुछ शोध करता कहते है, की आजकी टेक्नोलॉजी से किसी विक्सित टेक्नोलॉजी ने बनाया हुआ है, इतनी सीधी रेखा में पत्थर काटना आज भी मुश्किल जाता हा, केवल हतोड़ी और छैनी से किया कैसे होगा, ये किसी एलियन टेक्नोलॉजी का काम है। क्यूं की इस मंदिर में कुछ छेड़ इतने छोटे है की कोई भी मनुष्य उसमे जा नहीं सकता है, उसके अन्दर भी काम दिखाई देता है, ऐसा काम करने के लिए आज की टेक्नोलॉजी को कम्प्युटेरिसेड मशीनो की जरुरत है।po

और दूसरी तरफ यह मान्यता है की इस मंदिर के निर्माण पूर्व एक महायज्ञ किया गया, वैदिक मंत्रो के उच्चारण से जल, धरती पत्थर से आग ली गयी. कहा जाता है की वैदिक मंत्रो को सही ध्वनी में उच्चारण से और विशिष्ट तरंगो के उत्पादन से ये पत्थर जीवित हो उठाते है और भगवन विश्वकर्मा को आराधना करके कार्य निर्माण करने की वजह से, ये कार्य आसन हो सका।

अथर्व वेद में अनेक मन्त्र मिलते है, जिसे अगर आप गृह निर्माण से पहले उनका उच्चारण करेंगे तो आपके घर में कभी निरशा नहो होगी।

लेकिन फिर भी ये मंदिर आज भी एक रहस्य ही बना हुआ है, अनेक वैज्ञानिक हर साल आते है, घंटो काम करते है, चर्चा करते है, लेकी निराश होकर वापिस चले जाते है, लेकिन इसका रहस्य आजतक कोई खाज नहीं पाया है।

आपको इस मंदिर के बारे में जितना बताऊ उतना कम है, हम २ दिन तक इस मंदिर में रुके, जितना भी देखते मन ही नहीं भरता था, हर एक मूर्ति में कुछ ना कुछ तो रहस्य है, मैं आप सभी को इस एक विडियो के जरीय भी नहीं बता पाउँगा, जब आप स्वयं वह पर जायेंगे तब आपको पता चलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.